शीत के सबेरे में

शीत के सबेरे में ,
मित्रता की गर्माहट,
प्यार मोहब्बत के सूरज की,
सुनकर आहट ,
भावों के पंछी चहक उठते ।

अंगुलिया ठिठुर जाएँ ,
भावना उनींदी सी ,
प्यार के गरमागरम संदेश मगर लिखती हैं ।

– जानकी प्रसाद विवश

Related Articles

Responses

New Report

Close