हरिरूपम

हरिरूपम


 

 

उठ जाग अलौकिक ये प्रभात,
अम्बर में किरणों का प्रकाश,
जो भेद सके कोई इनकी जात,
तोह करे समुच्चय मानव की बात ।

विष-व्यंग टीस के सहा चला,
मलमार्ग में देह को गला-गला,
क्या अधिक थी ये भी मांग भला,
उदयाचल रूपी भाल सदा ?

हरिरूपम ना कर खेद प्रकट,
जनतंत्र निराला खेल विकट,
सह प्रमुदित निर्भय आन प्रथम,
स्वाधीन परम-तत्व, प्रमोद चरम,

पृथ्वी, जल और आकाश,
हर रूप स्वयम, हरी निवास,
जो भेद सके कोई इनकी जात,
तोह करे समुच्चय मानव की बात ।

– Piyush nirwan

#hindi #poetry #Castesim #society #humanism

Related Articles

“पृथ्वी दिवस”

पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल) स्पेशल ——————————– इन दो हाथों के बीच में पृथ्वी निश्चित ही मुसकाती है पर यथार्थ में वसुंधरा यह सिसक-सिसक रह जाती…

आज़ाद हिंद

सम्पूर्ण ब्रहमण्ड भीतर विराजत  ! अनेक खंड , चंद्रमा तरेगन  !! सूर्य व अनेक उपागम् , ! किंतु मुख्य नॅव खण्डो  !!   मे पृथ्वी…

#‎_मेरा_वाड्रफनगर_शहर_अब_बदल_चला_है‬

‪#‎_मेरा_वाड्रफनगर_शहर_अब_बदल_चला_है‬ _______**********************__________ कुछ अजीब सा माहौल हो चला है, मेरा “वाड्रफनगर” अब बदल चला है…. ढूंढता हूँ उन परिंदों को,जो बैठते थे कभी घरों के…

Responses

New Report

Close