हरिरूपम

हरिरूपम


 

 

उठ जाग अलौकिक ये प्रभात,
अम्बर में किरणों का प्रकाश,
जो भेद सके कोई इनकी जात,
तोह करे समुच्चय मानव की बात ।

विष-व्यंग टीस के सहा चला,
मलमार्ग में देह को गला-गला,
क्या अधिक थी ये भी मांग भला,
उदयाचल रूपी भाल सदा ?

हरिरूपम ना कर खेद प्रकट,
जनतंत्र निराला खेल विकट,
सह प्रमुदित निर्भय आन प्रथम,
स्वाधीन परम-तत्व, प्रमोद चरम,

पृथ्वी, जल और आकाश,
हर रूप स्वयम, हरी निवास,
जो भेद सके कोई इनकी जात,
तोह करे समुच्चय मानव की बात ।

– Piyush nirwan

#hindi #poetry #Castesim #society #humanism

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Khusbu Mittal - August 22, 2016, 3:58 pm

    बहुत सुन्दर

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 11, 2019, 10:52 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply