हे भक्त-वत्सल हे रघुनंदन

संगीत सहित

हे भक्त-वत्सल हे रघुनंदन
काटो भव-बंधन मेरे
हे भक्त-वत्सल हे रघुनंदन
काटो भव-बंधन मेरे
राम तुम्हीं हो भव-भय हरन वाले — 2 बार गायें
काटो भव-बंधन मेरे
————————————
हे भक्त-वत्सल हे रघुनंदन
काटो भव-बंधन मेरे ।।1।।
————————————–
गणिका उद्धारक तुम्हीं हो प्रभु जी
अजामिल को भव-पार प्रभु तुमने ही लगाई
मेरा भी प्रभु जी शरनागत कर लो स्वीकार -2 बार गायें ।।
हम भी है प्रभु जी तेरे चरणों के दास
——————————-
हे भक्त-वत्सल हे रघुनंदन
काटो भव-बंधन मेरे ।।2।।
————————————–
पतितों की जीवन-नईया प्रभु राम तुम ही संभाले
इसीलिए सारी दुनिया तुम्हें पतितपावन बुलाते
मेरी भी नईया पार लगो दो रघुनाथ
सारी सृष्टि आपसे यही गुहार लगाये-2 बार गायें
काटो भव-बंधन मेरे
राम तुम्हीं हो भव- भय हरने वाले
काटो भव-बंधन मेरे ।।
————————————-
हे भक्त-वत्सल हे रघुनंदन
काटो भव-बंधन मेरे ।।3।।
कवि विकास कुमार

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close