ज़िंदगी

ज़िंदगी में ऐसे काज करो
कि ज़िंदगी पे थोड़ा नाज़ करो
ज़िंदगी को रिलैक्स करो
ज़िंदगी का हेड मसाज़ करो
फिर
ज़िंदगी से कुछ सवाल करो

ज़िंदगी पे यक़ीन करो
ज़िंदगी को न ग़मगीन करो
माँ की आँखों का तारा बन कर
अँधेरे में सितारा बनकर
ज़िंदगी को ज़रा रंगीन करो

ज़िंदगी के तनिक हमराज़ बनो
ज़िंदगी में एक साज़ बनो
मज़लूमो की आवाज़ बनो
मासूमियत ,अल्हड़पना और इंसानियत की
ज़िंदा यहाँ मिसाल बनो ।

तेज

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in New Delhi, India

3 Comments

  1. Panna - April 11, 2016, 6:03 pm

    ज़िंदगी का हेड मसाज़ करो….. Nice

  2. Tej Pratap Narayan - April 12, 2016, 10:22 am

    shukriya .

  3. राम नरेशपुरवाला - September 10, 2019, 1:38 pm

    Mind blowing

Leave a Reply