ज़िन्दगी

ज़िन्दगी

बहुत खूब मैंने देखा जमाना

एक शाम और एक सुबह सुहाना

उजली सी ज़िन्दगी पे पाये

कितने रंग मैने ।

एक साथ होने का एक पल सुहाना

बहुत खूब मैने देखा जमाना।

मिर्च जैसी लगती है कभी तेरी बाते

तो कभी तेरी एक याद

हँसा देती है।

मैने देखा एक पल सुहाना।

खूब देखा तुमको बारिशो में

लोगो को भिगाना।

देखा है,मैने तुमको चैन से

बैचैन होते हुए।

अपनी आदतों से दुसरो को

परेशान करते हुए।

बहुत खूब मैने देखा जमाना।

कवि:-अविनाश कुमार

Email id:-er.avinashkumar7@gmail.com


 

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

ज़िन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया

ज़िन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया

ज़िद्दी ज़िन्दगी

मुश्किल ए ज़िन्दगी

ज़िन्दगी कोरा कागज़ थी हमारी

2 Comments

  1. Anjali Gupta - May 6, 2016, 4:23 pm

    Gracious 🙂

Leave a Reply