जिसकी आँख की सर्दी मुझे माकूल करती है
उसीकी आँख की नर्मी मुझे मकबूल करती है
पता है उसको कि ये मुमकिन नही लेकिन
न जाने क्यो मुझ से वो अभी तक प्यार करती है

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Nitesh Chaurasia - January 27, 2017, 11:59 am

    best line आँख की नर्मी मुझे मकबूल करती है wah

  2. Kirti - January 27, 2017, 4:46 pm

    simply beautiful 🙂

Leave a Reply