35 Minute

हमारे घर से ऑफिस (Office) का रास्ता कुछ 35 मिनट का है

3 सिगनल (Signal) और 64 km का यह रास्ता वही है जो GPS से सीखा है

कोई नया मोड़ लेने की ना कभी ज़रुरत पड़ी और ना कभी ले कर देखा है

घर से ऑफिस जाने का सिलसिला चल रहा है कई सालों से

बाहर ट्रैफिक से जूझते हैं और अंदर मन के सवालों से

 

मन पूछता है

क्यों लगे हो कुछ हासिल करने की इस होड़ मे

कुछ बनने के लिए मंडे (Monday) से संडे (Sunday) की दौड़ मे

रुक जाओ थम जाओ कुछ पल सांस तो ले लो

ज़िंदा हो तुम इस हकीकत का अहसास तो ले लो

 

आगे लाल सिगनल (Signal) देख हम गाड़ी सिगनल (Signal) पर रुकातें हैं

सिगनल (Signal) पर सबसे आगे खड़े होने की निराशा को छुपा मन को समझातें हैं

इस मंडे (Monday) से संडे (Sunday) के चक्र को रोकना नहीं है इतना आसान

जो रुकते भी हैं तो उम्मीदों का ट्रक (Truck) हॉर्न (Horn) मार करता है परेशान

 

हमे ट्रैफिक (Traffic) से जूझता देख मन कुछ पल शांत हो जाता है

फिर रास्ता खुलते ही माँ की तरह डांट लगाता है

ठीक है पर इस दौड़ मे और कितना आगे जाओगे

जहाँ हो ठीक हो, और कितनी मंजिलें पाओगे

हम आगे की गाड़ी को पीछे करने के लिए रफ़्तार बढ़ाते हैं

ज़िन्दगी मे अब तक यही सीखा है, इस बात का मन को आभास करते हैं

लड़ो, आगे बड़ो स्कूलों मे यही तो सिखाया है

जो मरा है हर पल, आगे वही तो बड़ पाया है

 

हमे आखरी राउंडअबाउट (Roundabout) पर गाड़ी घुमाते देख मन भी बात को घुमाता है

ठीक है मत रुको, आगे बड़ो, पर कोई नया मोड़ लेने मे तुम्हारा क्या जाता है

कुछ ऐसा करो जो तुम्हारा जूनून हो, जिसमे तुम सामर्थ हो

जो मुझे भी भाये, जिसमे जीने का अर्थ हो

हमे मन की यह बात भा जाती है

पर इस से पहले हम कुछ सोचें ऑफिस (Office) की पार्किंग (Parking) आ जाती है

 

किसी दिन 35 मिनट फिर बात करेंगे यह कह मन को फुसलाते हैं

और मंडे (Monday) से संडे (Sunday) की दौड़ मे फिर लग जाते हैं

 

for more visit by blog at https://kuchyunhee.wordpress.com/

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

Responses

New Report

Close