Kahani

कहानी


 

जो रक्त न दे सको, तो यह जवानी दे दो…

और वह भी तुमको प्यारी हो, तो ज़ुबान ही दे दो…

दलदल मैं फसा यह देश,

है सहारे की ज़रुरत,

ज़रा हाथ लगा कर नवयुग को,

प्रेरित करती कहानी दे दो…।

 

– पीयूष निर्वाण


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. देव कुमार - June 9, 2016, 11:24 am

    nice

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 11, 2019, 10:52 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply