Ati haiTeri yad

आती है बहुत ही याद तेरी,
तेरे जाने के बाद तेरी,
कब तक तुम आओगे यहा,
यह खबर नहीं है तेरी,
महफिल है सजी यहां,
बस तुम ही नहीं हो यहा,
घर आ जाओ तुम तो,
रौनके बहार आ जाएंगी यहां,
सज जाएगी महफिल मेरी,
एक तू ही तो हो मंजिल मेरी |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

11 Comments

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 17, 2019, 7:18 pm

    वाह बहुत सुंदर रचना

  2. Astrology class - October 17, 2019, 8:08 pm

    सुन्दर

  3. nitu kandera - October 17, 2019, 10:36 pm

    Good

  4. NIMISHA SINGHAL - October 18, 2019, 4:49 am

    Yaad tere aayegi humko bara rulayegi

Leave a Reply