Poonam singh, Author at Saavan's Posts

Teri bewafai

न रात को नींद न दिन को चैन है, तेरी वेरूखी से दिल बडा बेचैन है, जब तक चाहा दिल से खेला तुमने, भर गया जी तो पलटकर देखा भी नहीं तुमने, तेरी बेवफाई बहुत ही तड़पा गई मुझे, औरो ने तोरा दिल तेरा तो मेरी वफा तुझे याद आई, कैसी ये प्रीत निभाई तुमने, कैसी ये रीत निभाई तूमने, टूटे हुए दिल को जोड़ने में लगी हूं मैं, तेरी याद को मिटाने में लगी हूं मैं, रास्ते से गुजरो कभी तो देखूंगी भी नहीं तेरी तरफ मैं, सोचूं... »

Tukra ho tum dil ka

टुकड़ा हो तुम दिल का, मुराद हो तुम मन का, भोला है तू मन का, शैतान भी है तू बडा, मेरा तू है लाडला, अगर मैं रूठ जाऊं तो, तुझे चैन नहीं आता, तुझे मेरी फिक्र है, मुझे भी तेरी फिक्र है, मेरा तू है लाडला, घर देर से जो तू आए, तो मैं बेचैन हो जाऊं, मेरा तू है लाडला, जैसा मैंने था सोचा, वैसा ही तुझे पाया, तू है कितना सलोना, मेरा तू है लाडला, तुझे मेरी उम्र लग जाए, जग में तू नाम रौशन करें, है यह मेरी तुझे द... »

Ati haiTeri yad

आती है बहुत ही याद तेरी, तेरे जाने के बाद तेरी, कब तक तुम आओगे यहा, यह खबर नहीं है तेरी, महफिल है सजी यहां, बस तुम ही नहीं हो यहा, घर आ जाओ तुम तो, रौनके बहार आ जाएंगी यहां, सज जाएगी महफिल मेरी, एक तू ही तो हो मंजिल मेरी | »

Gunahgar

बनते हैं ऐसे गुनाहगार, नशे की लत ने ले ली जिंदगी, उसके भाई और पिता की, फिर वह जैसे तैसे पला फुटपाथ पर, फिर उसे भी लगी आदत नशे की, करने के लिए नशा वो लगा करने छीना झपटी, उसे क्या पता था, जिसकी वह छीन रहा है पर्श है वह प्रधानमंत्री की भतीजी, जमीन खिसक गए उसके पांव तले, मुंह से निकला, बुरे फंसे भाई, नानी याद आ गई उसकी | »

Naze ki adat

बनते हैं ऐसे गुनाहगार नशे की लत ने ले ली जिंदगी उसके भाई और पिता की फिर वह जैसे तैसे पल्ला फुटपाथ पर फिर उसे भी लगी आदत नशे की करने के लिए नशा वो लगाकर ने छीना जबकि उसे क्या पता था जिसकी वह चीज रहा है पर है वह प्रधानमंत्री की भतीजी जमीन खिसक गए उसके पांव तले मुंह से निकला बुरे फंसे भाई नानी याद आ गई उसकी »

Ek abaj dekar mujhe bula lo lo

एक आवाज देकर, मुझे बुला लो तू सनम, दौड़ी चली आऊंगी, कुछ नहीं सोचूंगी सनम, तूने अब तक मुझे, पुकारा ही नहीं, तूने अब तक मुझे, ठीक से जाना ही नहीं, मैं तो तेरे प्यार में, गिरफ्तार हूं सनम, बस एक तेरी आवाज देने की जरूरत है सनम, तुम भी मुझे प्यार करो, तो दुनिया मेरी संवर जाए सनम, तेरे बिना जीना गवारा नही है सनम | »

Mere kwabo me tum ho sanam

मेरे ख्वाबों में बस तुम हो, कोई और नहीं है सनम, तुम्हें यकी हो न हो, पर यही सच है सनम, तुम मुझ पर यूं शक ना करो, मैं बस तेरी हूं तेरी हूं सनम, मैं हद से भी ज्यादा तुझे प्यार करती हूं सनम, तू ही तो मेरी दुनिया हो, तू ही तो मेरी जान हो सनम, तू जो पांव जमी पर रख दो, तो मैं कदमों में फूल बिछा दूं सनम, तू अगर साहिल हो तो मै लहरे हू सनम, तेरे कदमों तले मेरी जन्नत है सनम | »

Majhab

क्यों ये ऊंच-नीच की दीवार है? आते हैं दुनिया में सभी तो, खाली हाथ ही होता है सभी का, क्यों यह जात पात की दीवार है? एक सा रंग होता है सभी के लहु का, एक ही हार मास से बने हैं सभी, अंतर बस इतना ही है कि लेता है जन्म कोई अमीरी में, लेता है जन्म कोई गरीबी में, भूल जाओ सब अपनी जाति को, सोचो बस एक ही जात है मानवता का, तोड दो मजहब की दीवार को, बस एक ही दीवार है मानवता का | »

Bharat ke amiro

ऐ भारत के अमीरों, जरा देखो इन गरीबों को, फटे हैं कपड़े तन पर इनके, उजरे हैं बाल इनके, दो वक्त की रोटी नहीं नसीब में इनकी, बच्चे इनके हैं भूख से बिलख रहे, किसी तरह सोते हैं फुटपाथ पर ये, रहने को घर नहीं इनको, जरा रहम करो तुम इनपर, अपने हिस्से का कुछ पैसा देकर, मदद को हाथ बढ़ाओ तुम, कुछ नहीं बिगड़ेगा तुम्हारा, बन जाएगी किस्मत इनकी, रहेगा न कोई गरीब भारत में, चारों तरफ अमन होगा | »

Teri mahfil me

तेरी महफ़िल में सनम, कभी आएंगे न हम, चाहे तुम कितनी गुजारिश कर लो, हम न कभी आएंगे सनम, इस कदर हम इतनी दूर निकल आए हैं हम, तेरी महफिल में सनम, कभी आएंगे न हम, माना वो वक्त कुछ और था, अब वो दौर नहीं है सनम, तब तो तुम्हे मेरी जरुरत ही न थी, तेरी उल्फत ने हमें जीना सीखना ही दिया है सनम, मेरी दुनिया अब अलग है, यही दुनिया अब जन्नत है मेरी, मेरे ख्वाबों में बस तुम नहीं, कोई और है सनम | »

Page 1 of 10123»