Holi hai..!!

तुम विष हो , अनश्वर

तुम से मिलकर जाना ..

कि साधना सिर्फ अमृत की बूँद  के लिए ही नहीं ,

मृत्यु के  बाहुपाश के लिए भी की जाती है .

तुम्हारा वरन करने के लिए बनाई है आंक के फूलों की माला

देखो , मेरी ओर क्रोध से देखो और भस्म कर दो मुझे ,

फिर इस गहरे लाल भस्म को अपने अंग अंग में लपेटो .

होली है !!

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

Leave a Reply