Kya Kare Koi

…..………………….Just A Few Lines………………..

उसकी खुशबू से महकी हैं सारी फ़िज़ाये
गुलों के रंग भी यूँ फीके पड़ जाए

न मय न मय-खाना ये जादू कर पाए
उसका नशा यूँ, कोई क्या ही कर पाए….

जो बीते है हम पर कोई उनको बतलाये
दिल हैं संभालें पर धड़कन ना आये

आफत-ए-इश्क़ वो हमको समझाएं
पर होवे दोबारा, कोई क्या ही कर पाए….

– पीयूष निर्वाण

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close