Activity

  • Pt, vinay shastri 'vinaychand' posted an update 2 months, 1 week ago

    जहाँ ठहर जाती है गंगा
    कुछ पल कुछ देर के खातिर।
    कुछ सुनने को छंद मुक्तकें
    गान प्रभाती सवेर के खातिर।।
    गाम सिमरिया धाम के दिनकर
    राष्ट्र कवि थे जन जन के प्यारे।
    आजादी हित हुंकार भरे और
    भारत का नव निर्माण कर डारे।।
    उन राष्ट्र कवि जन्मदिन पर
    हम भाव पुष्प चढ़ाते हैं ।।
    बधाईयाँ बहुत बहुत उन सबको
    जो हिन्दी के गुण गाते हैं।।