Rimjhim savan ki barsat

रिमझिम सावन की बरसात
उस पर आए तेरी याद……..
भीगी भीगी सावन की वो रात,
हौले हौलै बारिश की वो रात,
टिम टिम करते तारों की वो रात,
पल पल आए तेरी यादों की बारात,
जुगनू भी सम्मा जलाए उस रात,
चंदा भी राह दिखाए उस रात.
कोयल भी गीत सुनाए उस रात,
मोर भी नाच दिखाए उस रात,
याद आए सावन के झूलों की वो रात,
याद आए तुमसे मुलाकात की वो रात |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. usha gouniyal - August 3, 2019, 8:01 pm

    Naes seveta

  2. देवेश साखरे 'देव' - August 4, 2019, 5:24 pm

    लाजवाब

  3. Antima Goyal - August 7, 2019, 10:07 am

    जिन्द्दादिली से भरपूर

Leave a Reply