Rita arora jai hind

वसंत ऋतु पर मेरी ये कविता

?? रीता जयहिंद ??
आया वसंत देखो आया वसंत ।
खुशियों की सौगात लाया वसंत ।।
पेड़ पौधे पशु पक्षी सब लगे झूमने।
नदियाँ झरने सब गुनगुनाने लगे।।
मोर पपीहा कोयल गीत गाने लगे।
तितली भँवरे फूलों पर मंडराने लगे।।
पीली सरसों खेतों में खिलने लगी।
धरती भी अंबर को छूने लगी।।
सारा जग में खुशियाँ छाने लगी।
पेड़ों पर कमलपट खिलने लगे।।
गुलाब भी खुशबू महकाने लगे।।
राधे भी श्याम से मिलने जाने लगी ।
आया वसंत देखो आया वसंत ।। ??????❤❣???❣?????❤?

। राधे – राधे ।

Related Articles

बसंत पंचमी

माघ मास का दिन पंचम, खेतों में सरसों फूल चमके सोने सम। गेहूं की खिली हैं बालियां, फूलों पर छाई बहार है, मंडराने लगी है…

Responses

+

New Report

Close