Rita arora jai hind

एक प्रयास
मापनी 211 211 211 22

रे मन बावरा हुआ जाय है
बादलों में घटा घिर आयी रे।
श्याम बंसी की तान सुना दे
नयनन की प्यास बुझाय दे।।

?? रीता जयहिंद ✍?

Related Articles

Rita arora jai hind

मापनी 211 211 211 22 मैं बालक तुम पालनहार शरण पड़ी प्रभु राखो लाज । दाता दीनबंधु हे दीनानाथ कब से खड़ी हूँ मैं तेरे…

Rita arora jai hind

ऐ बंदा करम कर लेना फल की चिंता मत कर प्यारे ईश सब जानता रीता जयहिंद मैं जल चढ़ाने भोले बाबा के मंदिर में सोमवार…

Rita arora jai hind

अब ठंडक मौसम में कुछ तो बदला परिवेश सा है मनुवा नाच उठा रीता जयहिंद ऐ बंदा करम कर लेना फल की चिंता मत कर…

Rita arora jai hind

मेरा परिचय नाम है मेरा रीता अरोरा परिचय का मोहताज नहीं जन्म हुआ हाथरस में कविता मेरा शौक है दिल्ली की वासी हूँ मैं आई…

Responses

New Report

Close