Ummiden

दिल में उम्मीदों का दीपक जलाकर,
कर रही हूं मैं तेरा इंतजार,
घडी इंतजार की लंबी हो रही है,
अब चले भी आओ मेरी जान जा रही है,
ओ चांदनी न जाना तुम,
जब तक आ जाए न मेरा सनम,
फीकी है चंदा की चांदनी,
तेरे बगैर ओ सनम,
तू नहीं तो कुछ भी नहीं,
तू ही मेरा दिलबर ओ सनम,
तू नहीं तो कुछ भी नहीं,
ये तारे नजारे हैं बेकार,
लो अब आ ही गए तुम,
खुशियों की बगिया खिल गई,
उम्मीदों की कलियां खिल गई |


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

13 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 20, 2019, 5:54 pm

    Nice

  2. NIMISHA SINGHAL - November 20, 2019, 6:13 pm

    Wah

  3. राही अंजाना - November 20, 2019, 6:59 pm

    वाह

  4. Ashmita Sinha - November 20, 2019, 9:00 pm

    Nice

  5. nitu kandera - November 20, 2019, 10:16 pm

    Nice

  6. Abhishek kumar - November 23, 2019, 10:22 pm

    सुन्दर

Leave a Reply