आज टूट गये हम

आज टूट गये हम
तुम्हारे वादों की तरह
बरस गयी आंखे हमारी
बावरे सावन की तरह

Related Articles

Responses

New Report

Close