आतंक

आतंक का आओ मिलकर नाश करें,
चोर उचक्कों का चलो पर्दाफाश करें।
छोटे मोटे गुंडे मवाली को सबक सिखा,
उनके अपराधी हौसले का अंत करें।।

✍महेश गुप्ता जौनपुरी

Related Articles

कविता : हौसला

हौसला निशीथ में व्योम का विस्तार है हौसला विहान में बाल रवि का भास है नाउम्मीदी में है हौसला खिलती हुई एक कली हौसला ही…

कुछ नया करते

चलो कुछ नया करते हैं, लहरों के अनुकूल सभी तैरते, चलो हम लहरों के प्रतिकूल तैरते हैं , लहरों में आशियाना बनाते हैं, किसी की…

Responses

  1. को सही कह रहे हैं आप अगर ऐसा हो जाए तो मेरा भारत महान हो जाए

New Report

Close