उसके चेहरे से नजर हे कि हटती नहीं..

उसके चेहरे से नजर हे कि हटती नहीं

वो जो मिल जाये अगर चहकती कहीं

 

जिन्दगी मायूस थी आज वो महका गयी

जेसे गुलशन में कोई कली खिलती कहीं

 

वो जो हंसी जब नजरे मेरी बहकने लगी

मन की मोम आज क्यों पिगलती गयी

 

महकने लगा समां चांदनी खिलने लगी

छुपने लगा चाँद क्यों आज अम्बर में कहीं

 

भूल निगाओं की जो आज उनसे टकरा गयी

वो बारिस बनकर मुझ पे बरसती गयी

 

कुछ बोलना ना चाहते थे मगर ये दिल बोल उठा

धीरे- धीरे मधुमयी महफिल जमती गयी

 

आँखों का नूर करता मजबूर मेरी निगाहों को

दिल के दर्पण पर उसकी तस्वीर बनती गयी

 

सदियों से बंद किये बेठे थे इस दिल को

मगर चुपके से वो इस दिल में उतरती गयी

 

तिल तिल जलता हे दिल मगर दुंहा हे कि उठती नहीं

परवाना बनकर बेठे हे शमां हे की जलती नहीं

 

हो गयी क़यामत वो जो सामने आ गयी

दर्द ऐ दिल से गजल आज क्यों निकलती गयी

 

थोडा सा शरमाकर, हल्के से मुस्कुराकर झुकी जो नजर

नज़रे-नूर-ओ-रोशनी में मेरी रंगे-रूह हल्के से घुलती गयी

Related Articles

उसके चेहरे से …

उसके चेहरे से नजर हे कि हटती नहींवो जो मिल जाये अगर चहकती कहीं जिन्दगी मायूस थी आज वो महका गयीजेसे गुलशन में कोई कली…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. सदियों से बंद किये बेठे थे इस दिल को
    मगर चुपके से वो इस दिल में उतरती गयी…………bht khoob

  2. जो कभी मुड़कर ना देखती थी , मुझे ….
    वही आज मेरा दीदार करने , मेरी गलियोँ से गुजरती गयी……

    मनभावन , मन से मन की रचना ….pnna bhai

New Report

Close