एहसास

.एहसास
खोज कर रही हूं,
जिंदगी कही चली गयी है ।
कुछ कहा भी नही,
कोई संदेश नही,
कुछ पता नहीं, नहीं तो मै रुठने ही नहीं देती।
ले जाती उसे बाग में,मॉल मे,किसीं झिल के किनारे,
या फिर किसीं ऐसी जगह जहाँ
उसका दिल बहल जाता, ….थोडा सुकून मिलता ।
मैने सोचा ही नहीं,कितनी खुदगर्ज हुं मै,
हां, मैने अंधेरे में कुछ पन्नो के टुकडे देखे जरूर थे
सिसकीयां भरते हुए,
मैनेही उठाकर फेंक दिये थे,
वैसे तो लगता था के सबकुछ ठीकठाक है,
पर शायद नहीं,
इस भरी भीड में मै कितनी खो गयी,
मेरा पती,मेरे बच्चे,मेरा घर,मेरे लोग.
और कभी देखा ही नही उसकी तरफ मुडकर.

जबकी मेरे सफेद बाल, मेरा अकेलापन,
मेरा खाली बँक बॅलन्स अब पुछने लगे है ।
कल चाय की प्याली क्या गिर गयी,
बस ऐसें तेज शब्द गिर पडे,
आंखे भी आग बबुला सी,
तब ……तब कही कुछ एहसास होने लगा है,

जिंदगी कही चली गयी है ।
मै ढुंढ रही हुं उन पन्नों को
शायद कुछ लब्ज छोड गयी हो ।

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

Responses

  1. अपनों को खुश रखने की चाह में ,हम अपनी खुशी और अभिलाषाओं को भूल जाते हैं। यही बात कविता में बहुत ही बेहतरीन तरीके से प्रस्तुत की गई है।

  2. दूसरों को खुश करते करते स्वयं को भूल जाना….हम महिलाओं की इस आदत का सुंदर चित्रण किया है…. बहुत ख़ूबसूरत

  3. वास्तविकता है यह कि अपनी जिम्मेदारी निभाते निभाते पता ही नहीं चलता है कि कब जिंदगी निकल गयी। साधारण शब्दों में बड़ी बात कही गयी है। ‘मेरा पती,मेरे बच्चे,मेरा घर,मेरे लोग’ सुन्दर आनुप्रासिक छटा बिखेरी गयी है। तत्सम, तद्भसव, अरबी-फारसी, और अंग्रेजी शब्दों का तालमेल देखने लायक है।

    1. बहुत धन्यवाद आपका.वैसे मराठी ज्यादा लिखती हुं.लेकीन आप जैसे जानकार यहाँ हैं,तो सिखने मे आनंद आयेगा.thanks again satish ji.

  4. Grihasti ko ek Mahila kis Prakar chalati hai aur taken cut Narayan ka Samna karna padta hai yah Ek Mahila hi behtarin tarike se jaan sakti hai aur aapane ruk Nahin Kavita ke Madhyam se bahut hi Sundar Bhagwan Ko vyakt Kiya Hai

New Report

Close