कच्ची मिट्टी के हम पुतले

कच्ची मिट्टी के हम पुतले,

तपे गर जीवन भट्टी में,

तो  जगतहार  बने,

जैसे  सोना तप भट्टी में ,

अलंकार.  बने ,

कच्ची मिट्टी के हम पुतले,

अपनी. किस्मत आप गढ़े,

जैसे बरखा की कोई बूँद,

सीप में गिर मोती बने,

कच्ची मिट्टी के हम पुतले,

तपे न गर जीवन में,

तो फिर बेकार जीए,

बनते-मिटते ये जीवन क्या,

कितने ही जन्मो का चक्र,

हमने  पार. किए, जैसे

गीली मिट्टी चाक पर,

फीर- फीर  हर बार,

बने, हर बार मिटे ।

https://ritusoni70ritusoni70.wordpress.com/2016/07/12

Related Articles

जागो जनता जनार्दन

http://pravaaah.blogspot.in/2016/11/blog-post_75.htmlसमाज आज एक छल तंत्र की ओर बढ़ रहा है प्रजातंत्र खत्म हुआ। अराजकता बढ़ रही, बुद्धिजीवी मौन है या चर्चारत हे कृष्ण फिर से…

मदहोश हम

मदहोशी में जीवन कारवाँ, चला जा रहा है, लड़खड़ाते कदम,ठिठक जाते कदम, दिशाहीन मन,बिना पंख, उड़े जा रहे हैं, ख्वाबो के अधीन हम, हैरान हैं,…

Responses

New Report

Close