कविता

किसी की साँसों में जो घुल कर बोले,, उसका नाम कविता हैं,,
आत्मा को जो परमात्मा से मिलाये,,  उसका नाम कविता हैं,,
नवयुवती श्रृंगार हैं करती,, ना जाने किन किन बहानो पर यहाँ,,
वृधा को जो भावनात्मक परिपूर्ण कर दे,, उसका नाम कविता हैं,,

रुक्मणी,, जामवंती मिली हजारो एक से बढ़ कर एक यहाँ,,
पर जो राधा को श्याम से मिलाये,, उसका नाम कविता हैं,,

हर इंसान है प्यारा मेरा,, सबको मेरी फ़िक्र यहाँ,,
पर जो किसी भूले की फ़िक्र करा दे,, उसका नाम कविता हैं,,

गजले सुन-सुन कर सब,, हँसते – नाचते रहते हैं यहाँ,,
पर मेरी पीड़ा को जो खुद में बसा ले,, उसका नाम कविता हैं,,

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

पेशे से इंजीनियर,,, दिल से राईटर

4 Comments

  1. Mohit Sharma - August 31, 2015, 12:46 pm

    Ankit your poems are always splendid

  2. अंकित तिवारी - September 1, 2015, 8:53 am

    It itself tells about ur golden heart….. Thanku

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 11, 2019, 11:39 am

    बहुत बढ़िया

Leave a Reply