काश्मीर रुला दिया तुमने.

ये गज़ल मैने आस्तिन के सापो के लिये लिखी है जो कश्मीर मे है,अगर सही लिखा हो तो आप सबकी प्रतिक्रिया चाहता हु,
**********************************
अपनो को अनजान बना बेैठे हो,
जन्नत को शमशान बना बेठे हो
कलम वाले हाथो मे तलवार है,
तुम खुद को शैतान बना बेैठे हो
हमारा राम तुम्हारा खुदा हेेै,ही
खुद को क्यु भगवान बना बेैठे हो,
कई आँगन मे अब सुनापन है,
जीवन सबकी विरान बना बैठे हो,
विशाल सिंह (बागी)
9935676685

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

“काशी से कश्मीर तक सद्भावना यात्रा सन1994”

“काशी से कश्मीर तक सद्भावना यात्रा सन1994” किसी भी यात्रा का उद्देश्य सिर्फ मौजमस्ती व् पिकनिक मनाना ही नहीं होता | यात्राएं इसलिए की जाती हैं…

Responses

New Report

Close