कुछ मरहम लगा देते है

सब हर्फ़ों का खेल है इस खलक में
कुछ जख़्म देते है, कुछ मरहम लगा देते है

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

........................................

5 Comments

  1. Panna - January 17, 2016, 7:10 pm

    nice 🙂

  2. Ankit Bhadouria - January 19, 2016, 7:09 pm

    bht sahi kaha….:)

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:15 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply