कोरोना की बीमारी

ये कोरोना की बीमारी,
ना इंसान से डरी ना हारी ।
इसने इतने सबक सिखाए ,
ज़िन्दगी में किसी ने नहीं सिखाए ।
कोई कहे काढ़ा पीलो, कोई जड़ी – बूटी बताए ।
तुक्का मार रहें है ऐसे……
जैसे परीक्षा में कोई प्रश्न “आऊट ऑफ सलेबस” आए ।
तौबा है इससे , कोई तो इसकी वैक्सीन बनाए ।
घर में दुबके बैठे हैं, कोई इतना भी ना सताए ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

26 Comments

  1. Satish Pandey - September 6, 2020, 4:22 pm

    तौबा है इससे , कोई तो इसकी वैक्सीन बनाए ।
    घर में दुबके बैठे हैं, कोई इतना भी ना सताए ।
    बिल्कुल ही सटीक लिखा है आपने। यह एक ऐसा रोग है जिसने मानव जाति को झकझोर दिया है।

  2. Chandra Pandey - September 6, 2020, 4:26 pm

    Very nice

  3. MS Lohaghat - September 6, 2020, 4:33 pm

    बहुत ही बढ़िया, wow

    • Geeta kumari - September 6, 2020, 4:47 pm

      बहुत बहुत धन्यवाद आपका सर🙏… बहुत बहुत आभार

  4. Devi Kamla - September 6, 2020, 4:36 pm

    Nice

  5. Indu Pandey - September 6, 2020, 4:56 pm

    Very Nice Poem

  6. प्रतिमा चौधरी - September 6, 2020, 5:03 pm

    Very nice lines

  7. Rishi Kumar - September 6, 2020, 5:14 pm

    ✍👌

  8. Vasundra singh - September 6, 2020, 6:50 pm

    सुन्दर

  9. Piyush Joshi - September 6, 2020, 7:35 pm

    बहुत खूब

  10. Isha Pandey - September 6, 2020, 8:33 pm

    बहुत खूब, शानदार

    • Geeta kumari - September 6, 2020, 8:34 pm

      💐 आपकी सुंदर समीक्षा के लिए बहुत बहुत शुक्रिया ईशा जी💐

  11. मोहन सिंह मानुष - September 6, 2020, 10:34 pm

    सुन्दर प्रस्तुति

  12. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 7, 2020, 11:20 am

    अतिसुंदर

    • Geeta kumari - September 7, 2020, 11:52 am

      धन्यवाद भाई जी 🙏… स्नेह यूं ही बनाए रखना

  13. Indu Pandey - September 23, 2020, 6:45 pm

    sahi baat kahi

Leave a Reply