गजल

गजल

……………..गजल…………….
चल नही सकते तो टहल कर देखो
तुम अपनी सोच बदल कर देखो !
दर्द के फूल किस तरह निखर जाते है
आ मेरे बज्म किसी दिन गजल पर देखो ||

ओ बुरा मान न जाये कही मोहब्बत में
तुम जरा महफिलों में उनको संभल कर देखो |
गम किसे है नही कि तुम ही मरे जाते हो
बात बनती है जरा दिल से पहल कर देखो ||
उपाध्याय…


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

2 Comments

  1. Anika Chaudhari - July 28, 2016, 1:19 pm

    बहुत सुन्दर लिखा है जी

  2. राम नरेशपुरवाला - October 27, 2019, 12:47 am

    Sunder

Leave a Reply