गम की हवेली

गम की हवेली

****

था पहले दिल मेरा इक गम की हवेली
अब हजारों गमों के झुग्गीयों की बस्ती हो गया!!

****

 


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Panna.....Ek Khayal...Pathraya Sa!

4 Comments

  1. Ushesh Tripathi - April 16, 2016, 7:51 pm

    Waah! Kya baat ha

  2. Anupam Tripathi - October 21, 2016, 1:02 am

    बहुत मार्मिक एवं सुन्दर अभिव्यक्ति

  3. Ria - January 5, 2017, 8:59 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply