…….गुज़र जाएगा…..

( दुनियां )
एक सोच में डूबी हूँ
क्या करूँ और किस काम को छोड़ दूं….
महाकाल , भयावह काल , कोरोना काल का यह समय किस तरफ़ मोड़ दूँ…..
समय माँगे जा रहा है फ़िर से समय
रुको वहीं , थोड़ा थम जाने दो
बुरा वक़्त है….. अपने समय से ये भी पलट जाएगा
गुज़र जाएगा….. ये मुश्किल समय भी नई खुशियां लाएगा…..

( डॉक्टर )
होते ना आप सब साथ , जंग शुरू में ही हार जानी थी
जुड़े हाथ से हाथ और क़िस्मत को एक नई कहानी बनानी थी….
सेवा भाव करते करते भी हमारे फ़रिश्ते ( डॉक्टर ) भाव -विभोर हुए ,
इस जंग को लड़ने के ख़ातिर ,…..अपने परिवार नन्हें बच्चों से भी दूर हुए….
इस जुदाई का परिणाम भी भाग्य अच्छा ही दे जाएगा
गुज़र जाएगा……ये अंधेरा भी जल्दी ही सफ़ेद रौशनी से डर जाएगा……

( नर्स )
माँ की ममता की दुलार आपके ही आँचल में मिली…..
इतनी नन्हीं जिंदगी , आपके हाथों से आपके हाथों में खिली…
इंजेक्शन – दवा आप ना होते तो कैसे हम कर पाते….
बेजान कमरों की दीवारों में कैसे ममता का अक्स देख पाते….
आपके कारण ही विश्वास है…..14 -21 दिनों – महीनों के सफ़र हमारा , आपसे ही संवर जाएगा…..
ये पल , ये समय ……गुज़र जाएगा…… माँ की ममता से ऊपर ममता देख ये भी बिख़र जाएगा……

( पुलिस )
बलशाली आप , बल दिखा दिया पूरा दुनियां को फ़िर एक बार…
समझाया प्यार से…..रहों घर में….. न होने देंगे हम दूर तुम्हारा घर- बार
देश की सीमा पर जवान , देश में रहते हुए आपका बलिदान….
18 -18 घण्टों की ड्यूटी से देश का प्रत्येक नागरिक रहेगा आपका कर्जदान….
ख़ाकी वर्दी में आप बलशाली …..कलियुग के हनुमान में आपका ही नाम आएगा….
पलट जाएगा.…..आपके साहस से यह दुखमय समय सुखमय में बदल जाएगा……

( सफाईकर्मी )
ना होते आप तो , पर्यावरण को स्वच्छ कौन इतना रख पाता
मुश्किल दौर में कौन बिखरने से हमको संभाल पाता….
मुँह पर मास्क , पीठ पर सैनिटाइजर रख कौन कर्मठता दिखाता….
देश साफ़ रहता क्या …..या इंसान कूड़ों के ढेर सा बिखर जाता….
आपके ही कारण …..देश सुंदर बन पाएगा…..
बदल जाएगा……. साहस से आपके हर गली हर मोहल्ला संवर जाएगा……

( सेवा भाव रखने वाले )
देश हित में लगे आप नोजवानों….
आपका कर्म भी आपको समय मीठा ही दे जाएगा….
सेवा भाव बनाए आप सभी पर
यूहीं बातों ही बातों में आपका नाम जरूर याद आएगा…..
चूक जाएगा…… कोरोना महामारी का तीर भी आपके सीने का जोश देख मुकर जाएगा…… ये मुश्किलों का दौर भी चला जाएगा…..

कुछ चीज़ें भी फ़िर पटरी पर आएगी
वीरान गलियां भी फ़िर ख़ुशनुमा हो जाएगी
विश्वास के जब 130 करोड़ ताल मिलेंगें
जन विश्वास के जब 130 करोड़ दीपक जलेंगें
कोरोना जल्दी ही उसमें जल ही जाएगा…..
थम जाएगा….. ये क़हर भी क़ुदरत का थम ही जाएगा…..

जो खो गई थी मुस्काने चेहरों से
अब देखना बढ़ कर वापिस आएगी
” आत्मनिर्भर ” की नई रणनीति देश का तिरंगा
गर्व से शान से सबसे ऊँचा लहरायेगी….
मास्क से मुँह ढका है पर,
चेहरे की मुस्कुराहट का अब आँखों से पता चल जाएगा….
समय बड़ा बलवान है….. और बलशाली हमें भी बना जाएगा…..
चला जाएगा….. ये मुश्किलों का दौर भी चला जाएगा।।

जय हिंद ……..वंदे मातरम ।।।।।।।।।।

By :- Vaishali Goyal

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

New Report

Close