गुज़ारिश

तेरे मेरे दरमियाँ जो फ़ासला है कम कर दे।

मेरी आँखों के आँसुओं को तू शबनम कर दे।

तूने वादा किया था मुझसे साथ देने का।

तो साथ चल या फिर ये सिलसिला ख़तम कर दे॥

तमाम उम्र तेरा इंतज़ार कर लूँ मैं,

इंतेहा भी जो अगर हो तो कोई बात नहीं,

यूँ इशारा नहीं इज़हार मुझसे कर आके

इश्क़ तो वो है कि इक़रार खुद सनम कर दे।

 

यूँ तो महफ़िल है मेरे साथ, कई साथी हैं,

फिर भी इस दिल को तमन्ना है एक हमदम की,

ऐसा हमदम कि जो हमदर्द एक सच्चा हो,

छू ले ज़ख्मों को तो ज़ख्मो को भी मरहम कर दे।

_______________

शिवकेश द्विवेदी

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. जो हो गयी है बंजर जमीन, जमाने कि दिल की
    तू कुछ अश्क बहाकर इसे नम कर दे||

New Report

Close