ज़ाकिर भी लिखूं तो जिक़्र उन्ही का आता है

ज़ाकिर भी लिखूं तो जिक़्र उन्ही का आता है

ज़ाकिर भी लिखूं तो जिक़्र उन्ही का आता है


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Panna.....Ek Khayal...Pathraya Sa!

Related Posts

“सज़ा”#2Liner-46

“खुशबू” #2Liner-45

“सुकून” #2Liner-44

“आरजू” #2Liner-44

3 Comments

  1. Sulabh Jaiswal - June 18, 2015, 5:55 pm

    Wah…. kya baat he… bahut khoob!

  2. Satish Pandey - August 22, 2020, 3:38 pm

    Waah waah

Leave a Reply