तमाशा

तराशने वालों ने, पत्थर को भी तराशा है,
नदानों के आगे हुआ, हीरे का भी तमाशा है।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

अचरज है कैसे

मिठास दूँगा

वन-सम्पदा

मृगतृष्णा

16 Comments

  1. Chandra Pandey - September 6, 2020, 2:00 pm

    Very nice,

  2. Devi Kamla - September 6, 2020, 2:03 pm

    वाह, शानदार

    • Geeta kumari - September 6, 2020, 3:32 pm

      बहुत बहुत शुक्रिया आपका कमला जी🙏

  3. Satish Pandey - September 6, 2020, 2:25 pm

    इन शानदार पंक्तियों की जितनी तारीफ की जाये कम है, keep it up

    • Geeta kumari - September 6, 2020, 3:33 pm

      बहुत बहुत शुक्रिया जी 🙏….. हौसला अफजाई के लिए आपका हार्दिक आभार

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 6, 2020, 2:37 pm

    शानदार

    • Geeta kumari - September 6, 2020, 3:33 pm

      बहुत बहुत शुक्रिया आपका भाई जी 🙏

  5. Suman Kumari - September 6, 2020, 3:54 pm

    सुन्दर

  6. प्रतिमा चौधरी - September 6, 2020, 5:12 pm

    बहुत सुंदर पंक्तियां

    • Geeta kumari - September 6, 2020, 5:56 pm

      बहुत बहुत धन्यवाद आपका प्रतिमा जी🙏

  7. Piyush Joshi - September 6, 2020, 7:38 pm

    वाह जी

  8. Isha Pandey - September 6, 2020, 8:36 pm

    वाह वाह

    • Geeta kumari - September 8, 2020, 6:35 pm

      हौसला अफजाई के लिए बहुत बहुत शुक्रिया जी 🙏

Leave a Reply