5-watercolor-painting-people-by-vladimir

तस्वीर

बहुत दिन हो गए उसके ख्यालो की आंधी में बसे हुए,,

चलो आज उसकी एक तस्वीर बनाते हैं,,

 

उसकी अल-कायदा सी आँखे हैं,, जो बस मार ही डालती हैं,,

उसकी बुलडोज़र सी बाते हैं,, जो बस गिरा ही डालती हैं,,
लगता हैं उसके बाप का किसी कसाब से तगड़ा रिश्ता हैं…
वरना ताज की खूबसूरती को यूँ ही नहीं चकनाचूर कर डालती हैं…

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

पेशे से इंजीनियर,,, दिल से राईटर

4 Comments

  1. Mohit Sharma - October 20, 2015, 1:02 pm

    Shaandaar!

  2. anupriya sharma - October 20, 2015, 1:47 pm

    nice!

  3. SACHIN SANSANWAL - October 20, 2015, 1:50 pm

    Hahaha…. nyc

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 11, 2019, 11:37 am

    वाह बहुत सुंदर रचना ढेरों बधाइयां

Leave a Reply