तूम चले जाओगे तुम्हारी यादें रह जायेंगी

0

 ############################

दिल के बागों मे खुशबुयें ही खुशबुयें रह जायेंगी
तूम चले जाओगे तुम्हारी यादें रह जायेंगी

रहेगा सदा इन्तजार तेरा इन आंखो को
दरवाजे ए दिल पर तुम्हारी दस्तकें रह जायेंगी

आना था तुमको खुशी खुशी हमारी यादों में
क्या पता था रूखसारों पर खारी लकीरें रह जायेंगी

जो कह ना पाये वो लिख देते है आज
नहीं तो तुम्हारी यादें तडपती रह जायेंगी

#############################

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Nothing in life is to be feared, it is only to be understood :)

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

8 Comments

  1. पंकजोम " प्रेम " - November 13, 2015, 7:08 pm

    Nice combination of wrds….ji

  2. Vikas Bhanti - November 14, 2015, 12:51 pm

    nice poem Doc

  3. Ankur Khandpur - November 20, 2015, 7:47 pm

    Cute poem.. Phool tut jatein hain, parr khushbein reh jati hai 😀

  4. राम नरेशपुरवाला - September 12, 2019, 12:52 pm

    Good

  5. राम नरेशपुरवाला - September 30, 2019, 10:06 pm

    वाह

Leave a Reply