तेरे हर दर्द की….

तेरे हर दर्द की तासीर जानते हैं,
तेरे हर रंजो गम की वजह जानते हैं,
वो बेपरवाह है ,तेरे इश्क से ,
लेकिन तेरी रज़ा क्या है?
वो सब जानते हैं।

Related Articles

Responses

New Report

Close