दर्द ए अश्क

तेरा  ज़िक्र  तो  हर  जगह  होता  है
दर्द ए अश्क आंखों में जो भरा होता है

Related Articles

रात अँधेरा ख़ामोशी तन्हाई,अश्क़ मिला

रात अँधेरा ख़ामोशी तन्हाई,अश्क़ मिला। यादें वक़्त पल तस्वीरें बातें,अश्क़ मिला। , जिंदगी झूठ क्या वादें क्या क़समे इरादें। मौत सच तन्हाई सच आँखें,अश्क़ मिला।…

Responses

  1. ज्यादा फर्क नहीं है हमारी हालत में ,
    फर्क सिर्फ इतना है …
    तेरी आँखों में कोई और बसा है ,
    मेरे जिक्रो में कोई और बसा है ||

New Report

Close