दिल्ली

दिल्ली के चोर सन्नाम हैं जहाँ में,
नेता और चोर बेइमान हैं वहाँ के।
कभी मत आना उनके झांसे में,
फ्री फ्री बोलकर ठगते बहुत है।।

✍महेश गुप्ता जौनपुरी


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. Anita Sharma - July 12, 2020, 9:18 pm

    👍

  2. Satish Pandey - July 12, 2020, 10:07 pm

    gajab

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - July 12, 2020, 10:32 pm

    Good

  4. Abhishek kumar - July 12, 2020, 11:28 pm

    True
    फ्री, फ्री
    फ्री-फ्री

  5. Abhishek kumar - July 31, 2020, 1:25 am

    परिभाषा तथा आंग्ल भाषा का प्रयोग करके कवि ने पराकाष्ठा को दिखाया है

  6. प्रतिमा चौधरी - September 26, 2020, 4:08 pm

    सच्चाई

Leave a Reply