दिल के इरादे

मुश्किलें दिल के इरादे आजमाती हैं,

स्वप्न के परदे निगाहों से हटाती हैं,

हौसला मत हार गिर कर ओ मुसाफिर,

ठोकरें इन्सान को चलना सिखाती हैं |

Related Articles

माँ

माँ: जीवन की पहली शिक्षिका ******************** जीवन की पहली गुरु, मार्गदर्शिका कहाती है हर एक सीख,सहज लब्जों में सिखाती है ।। धरा पे आँखे खुली,माँ…

कविता : हौसला

हौसला निशीथ में व्योम का विस्तार है हौसला विहान में बाल रवि का भास है नाउम्मीदी में है हौसला खिलती हुई एक कली हौसला ही…

Responses

New Report

Close