दोस्ती

दोस्ती का अजब सा
किस्सा है
दोस्त जीवन का
अहम
हिस्सा है ।

स्वार्थ का
नामोनिशाँ तक
है नहीं ,

जन्म जन्मों का
अमर रिश्ता
है ।

प्रिय मित्रों
वसंती सवेरे की सरस.
घड़ियों में
सपरिवारसहर्ष ,मंगलकामनाएँ
सहर्ष स्वीकार करें ।

आपका अपना मित्र
जानकी प्रसाद विवश

Related Articles

माधवी-सवेरे

**माधवी – सवेरे”** ********* सुप्रभात माधवी-सवेरे का मन से अभिनन्दन , सुप्रभात, मंगलमय मित्रों का वन्दन । प्राची की लाली की टेर है सुहानी ,…

मित्र

प्राण से ज्यादा,मित्र हो प्यारे , इस. नश्वर संसार में । तीर्थ राज संगम स्थित है , प्रिय मित्रों के प्यार में । व्यर्थ सभी…

Responses

  1. बहतरीन जी मेरी रचना प्रतियोगिता में है गणतन्त्र में हो सके तो कमेन्ट करें

New Report

Close