धरती यह बोले

यह धरती बोले
काँटे मत बोना हे मानव!
फूल ही फूल उगाना
बन कर महक तू
हर ह्रदय को
महकाना


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - May 20, 2020, 9:20 pm

    Nice

  2. Pragya Shukla - May 20, 2020, 9:26 pm

    सुंदर भाव

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - May 21, 2020, 7:41 pm

    वाह बहुत सुंदर

  4. Dhruv kumar - May 22, 2020, 9:25 pm

    Nyc

  5. Abhishek kumar - May 23, 2020, 9:09 pm

    🙏

Leave a Reply