न हुई सुबह न कभी रात इस दिल ए शहर में

 

न  हुई  सुबह  न  कभी  रात इस दिल ए शहर में

कितने   ही   सूरज   उगे   कितने   ही  ढलते  रहे

Related Articles

आज़ाद हिंद

सम्पूर्ण ब्रहमण्ड भीतर विराजत  ! अनेक खंड , चंद्रमा तरेगन  !! सूर्य व अनेक उपागम् , ! किंतु मुख्य नॅव खण्डो  !!   मे पृथ्वी…

Responses

New Report

Close