परिभाषा

जीवन एक परिभाषा है,
सीखो और चलना सीखो।
काल चक्र के सायें में पड़कर,
जीवन अपना योग्य बनाना सीखो।।

✍महेश गुप्ता जौनपुरी

Related Articles

आनंद नाद

खुश रहना हंसना तुम सीखो। दुखों से भी लड़ना तुम सीखो । तूफानों को झेलना सीखो। चट्टानों सा बनकर देखो । आकाश में उड़ते पंछी…

काल चक्र

काल चक्र में घूम रही, मैं कोना-कोना छान रही, हीरा पत्थर छाँट रही मैं, तिनका-तिनका जोड़ रही, उसमें भी कुछ हेर रही, संजोऊँ क्या मैं…

Responses

New Report

Close