पैसा की चाहत ॥

पैसे की चाहत ने ॥

मन तो मेरा कोमल था ॥

तेरी चाहत ने खुदगरज बना दिया  ॥

हर रिश्ता अपना सा था ॥

बेगाना बना दिया ॥

शान्ति,नीद अपनी थी ॥

पर बीमारी के सग जीना सीखा दिया।

अकेला हूँ  आज हर अहसास  से ॥

तेरी चाहत ने अहपाईज बना दिया ॥

 

रेनुका गोयल ॥

Related Articles

आज़ाद हिंद

सम्पूर्ण ब्रहमण्ड भीतर विराजत  ! अनेक खंड , चंद्रमा तरेगन  !! सूर्य व अनेक उपागम् , ! किंतु मुख्य नॅव खण्डो  !!   मे पृथ्वी…

Responses

New Report

Close