प्यार चाहिए

मुझे एहसान नहीं प्यार चाहिए।
मुझे रहम नहीं एतबार चाहिए।

तुम ही मेरे दिल की सुकून हो,
मुझे तड़प नहीं करार चाहिए।

बगैर तुम्हारे अब जीना है मुहाल,
मुझे तसव्वुर नहीं दीदार चाहिए।

बरसों से जिंदगी का चमन है सूना,
मुझे खिजां नहीं बहार चाहिए।

देवेश साखरे ‘देव’

Related Articles

खता

लम्हों ने खता की है सजा हमको मिल रही है ये मौसम की बेरुखी है खिजां हमको मिल रही है सोचा था लौटकर फिर ना…

करार

किसी की जीत या किसी की हार का बाजार शोक नहीं मनाता। एक व्यापारी का पतन दूसरे व्यापारी के उन्नति का मार्ग प्रशस्त करता है।…

Responses

New Report

Close