बदलता ज़माना

सूना था वक़्त रुकता नहीं, बहता है, बदलता है, बस राह अपनी;
जाने कब खो गए वो दिन प्यारे
जाने कब छूट गए वो लोग सारे,
बच गई तो बस कुछ एहसास न्यारी,
रूठ गई क्या हमसे ये ज़िंदगी प्यारी?

बदल गई क्या वो सूरज की रोशनी निराली,
बदल गई क्या वो चिड़ियों की ची ची प्यारी,
या बदल गई पवन की शीतलता सारी,
बदल गई क्या बचपन की कोमलता क्या री?
बदल गई क्या मानवता की जीविका सारी,
बदल गई किताबो की पंक्तियाँ सारी,
रूठ गई क्या हमसे ये ज़िंदगी प्यारी?

Read more on http://kreatiwitty.com/index.php/badalta-zamana/#more-24

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. बदल गई क्या मानवता की जीविका सारी,
    बदल गई किताबो की पंक्तियाँ सारी,
    रूठ गई क्या हमसे ये ज़िंदगी प्यारी?
    वाह वाह

New Report

Close