बह्र

बह्र – २१२२ / २१२२ / २१२

:::::::::::::::::::;:::::::::::::::::::::::::

जो हुआ वो सब भुलाना चाहिए ।
रूठे मन को अब मनाना चाहिए।१

बैठ यारों अब यहा महफिल सजें
मयकशी का दौर लाना चाहिए।२

गर शिकायत हो किसी को मगर,
दिल से दिल को जोड़ जाना चाहिए।३

आप आए तो ग़ज़ल का जाम ले,
जश्न अब हमको मनाना चाहिए।४

है खुशी का पल यहां तो चल यारा
मौसिकी का गुरूर दिखाना चाहिए।५

हर तरफ चर्चा तेरा “योगेन्द्र” यहा,
झूमकर गाना बजाना चाहिए।६

::::::::::::::::: योगेन्द्र कुमार निषाद
घरघोड़ा,छ०ग०

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. राही अंजाना - July 31, 2018, 11:16 pm

    Waah

Leave a Reply