बेटी घर की रौनक होती है

बेटी घर की रौनक होती है
बाप के दिल की खनक होती है
माँ के अरमानों की महक होती है
फिर भी उसको नकारा जाता है
भेदभाव का पुतला उसे बनाया जाता है
आओ इस रीत को बदलते है
एक बार फिर उसका स्वागत करते है


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

H!

Related Posts

9 Comments

  1. Sridhar - December 14, 2018, 10:57 am

    Wah

  2. Annu Burnwal - December 16, 2018, 6:11 pm

    बहुत सुन्दर पंक्तिया है।

  3. देवेश साखरे 'देव' - December 17, 2018, 4:10 pm

    सुंदर रचना

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 8, 2019, 10:50 am

    वाह बहुत सुंदर

  5. राम नरेशपुरवाला - September 11, 2019, 3:35 pm

    वाह

Leave a Reply