भूलेगी कैसे

आज का यह भारत प्रतिफल है उनके अथक प्रयासों का
सावित्री बाई फूले जो थी शिक्षिका, उनकी शिक्षा नीतियों का
भूलेगी कैसे भारत की बेटियां, ऋणी है जिनकी संकल्प शक्ति का
जिनके जज़्बातो से, बल मिला, बालिका शिक्षा दिलाने का
हर स्त्री का सच्चा है आभूषण उनकी ज्ञान की ज्योति का
ललक जगाया उनमें शिक्षित,स्वाबलम्बी,आत्मविश्वासी
बनने का ।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

“मैं स्त्री हूं”

सृष्टि कल्याण को कालकूट पिया था शिव ने, मैं भी जन्म से मृत्यु तक कालकूट ही पीती हूं।                                                    मैं स्त्री हूं।                                              (कालकूट –…

बेटियां

बेटियां रोशन हर घर जहां जन्म लेती हैं बेटियां 👩‍🎓 🧑होती हैं दो कुलों की रक्षक यह बेटियां 👩‍🔬 घर-भर की रौनक ये खिलखिलाती बेटियां👩‍🚒…

बेटियाँ

पैदा होने से पहले मिटा दी जाएँगी बेटियाँ, बिन कुछ पूछे ही सुला दी जाएँगी बेटियाँ, गर समय रहते नहीं बचाई जाएँगी बेटियाँ, तो भूख…

Responses

  1. सावित्री बाई फूले जो थी शिक्षिका, उनकी शिक्षा नीतियों का
    भूलेगी कैसे भारत की बेटियां, ऋणी है जिनकी संकल्प शक्ति का
    बहुत ही सुंदर तरीके से आपने सावित्री बाई फूले जी के योगदान पर प्रकाश डाला है। फूले जी को नमन।

New Report

Close