भोजपुरी कविता- सूझबूझिया लगइबा ना त |

भोजपुरी कविता- सूझबूझिया लगइबा ना त |

भोजपुरी कविता- सूझबूझिया लगइबा ना त |
सूझबूझिया लगइबा ना त कईसे होइहे किसनिया |
धनवा कटाई खेतवा जोताई करा गेहुआ बोवनिया|
गोबरा के खदीया खेतवा मे डलिहा मटिया मिलाई |
खर पतवरवा चुनी निकलिहा हरवा बयलवा चलाई |
आइब हमहु खेतवा बनाई लिट्टी चोखा औरी चटनिया |
किट पतंगवा से गेंहुआ बचावेके सङ्गे दवइया डालेके |
सूझबूझिया लगाई जानवर चउआ से खेतवा बचावेके |
लह लहलहाई हरियर गेंहुआ बलिया बही पवनिया |
समईया देखि सिंचल जाई खेतवा पनिया निरमल हो |
खेतवा परति ना छोड़िहा बोई दीहा धनिया हरियर हो |
पकी जइहे गेहुआ काटी भरी दीहा सइया खरिहनिया |
बाल बच्चा खइहे घरे गाँव नगरिया सबके खियाइब |
भुखल ना रही केहु देशवा भूखिया अबके मिटाइब |
सूझबूझिया मार भगाइब दुश्मन पापी पाकिस्तनिया |
सूझबूझिया लगइबा ना त कैसे होइहे किसनिया |
श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,
मोब /वाहत्सप्प्स -9955509286

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

9 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - November 5, 2019, 12:09 pm

    Maati ke gandh bhari kavita

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 5, 2019, 1:34 pm

    Good

  3. Poonam singh - November 6, 2019, 3:44 pm

    Good

  4. nitu kandera - November 8, 2019, 9:18 am

    Nice

  5. राही अंजाना - November 10, 2019, 8:50 am

    वH

  6. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 10, 2019, 7:14 pm

    जय हो 📌

  7. Abhishek kumar - November 25, 2019, 1:34 am

    का बात

Leave a Reply