मन तुम्हारा गीत सा

मन तुम्हारा गीत सा ,
पावन सुरीला !
तन मधुर मकरंद से,
आवेष्टित !
भाव का भ्रम जाल है,
चारो तरफ!
कामनाओं से भरी,
मनुहार हो तुम!
स्वप्न का संसार हो तुम !!

आर्य हरीश कोशलपुरी

Related Articles

Responses

New Report

Close